Home International नेपाल ने नए राजनीतिक नक्शे को मंजूरी दी, भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख...

नेपाल ने नए राजनीतिक नक्शे को मंजूरी दी, भारतीय क्षेत्र कालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधूरा को अपने देश का हिस्सा बताया



नेपाल ने अपने नए राजनीतिक नक्शे को मंजूरी दे दी है। इसमें तिब्बत, चीन और नेपाल से सटी सीमा पर स्थित भारतीय क्षेत्रकालापानी, लिपुलेख और लिंपियाधूरा को नेपाल का हिस्सा बताया गया है। नए नक्शे में नेपाल के उत्तरी, दक्षिणी, पूर्वी और पश्चिमी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को दिखाया गया है। इन सीमाओं से सटे इलाकों की राजनीति और प्रशासनिक व्यवस्थाओं के बारे में भी बताया गया है।

नेपाल के वित्त मंत्री युबराज खाटीवाडा ने नया नक्शा जारी करने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि अपडेटेड नक्शे को मंत्रिपरिषद की बैठक में रखा गया, जहां इसे मंजूरी दे दी गई। इस नक्शे को सभी सरकारी दस्तावेजों पर इस्तेमाल किया जाएगा। देश के प्रतीक चिन्हों पर भी अब से यही नक्शा होगा। किताबों में यही नक्शा पढ़ाया जाएगा और आम लोग भी इसका ही इस्तेमाल करेंगे।

लिपुलेख मार्ग के उद्घाटन के बाद नेपाल ने आपत्ति जताई थी
भारत ने 8 मई को लिपुलेख-धाराचूला मार्ग का उद्घाटन किया था। नेपाल ने इसे एकतरफा फैसला बताते हुए आपत्ति जताई थी। उसका दावा है कि महाकाली नदी के पूर्व का पूरा इलाका नेपाल की सीमा में आता है। जवाब में भारतीय विदेश मंत्रालय ने कहा था कि लिपुलेख हमारे सीमा क्षेत्र में आता है और लिपुलेख मार्ग से पहले भी मानसरोवर यात्रा होती रही है। हमने अब सिर्फ इसी रास्ते पर निर्माण कर तीर्थ यात्रियों, स्थानीय लोगों और कारोबारियों के लिए आवागमन को सुगम बनाया है।

भारत ने नवम्बर 2019 में जारी किया था अपना नक्शा
भारत ने अपना नया राजनीतिक नक्शा 2 नवम्बर 2019 को जारी किया था। इसे विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग ने सर्वेक्षण विभाग के साथ मिलकर तैयार किया है। इसमेंकालापानी, लिंपियधुरा और लिपुलेख इलाके को भारतीय क्षेत्र में बताया गया है। नेपाल ने उस समय भी इस परएेतराज जताया था। इसके बाद भारतीय विदेश मंत्रालय ने सीमा से किसी प्रकार की छेड़छाड़ से इनकार किया था। विदेश मंत्रालया ने कहा था कि नए नक्शे में नेपाल से सटी सीमा में बदलाव नहीं है। हमारा नक्शा भारत के संप्रभु क्षेत्र को दर्शाता है।
कब से और क्यों है विवाद?
नेपाल और ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के बीच 1816 में एंग्लो-नेपाल युद्ध के बाद सुगौली समझौते पर हस्ताक्षर हुए थे। इसमें काली नदी को भारत और नेपाल की पश्चिमी सीमा के तौर पर दर्शाया गया है। इसी के आधार पर नेपाल लिपुलेख और अन्य तीन क्षेत्र अपने अधिकार क्षेत्र में होने का दावा करता है। हालांकि,दोनों देशों के बीच सीमा को लेकर स्थिति स्पष्ट नहीं है। दोनों देशों के पास अपने-अपने नक्शे हैं जिसमें विवादित क्षेत्र उनके अधिकार क्षेत्र में दिखाया गया है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


भारत ने 8 मई को लिपुलेख मार्ग का उद्घाटन किया था। इसके बाद नेपाल ने लिपुलेख को अपना इलाका बताते हुए इस पर आपत्ति जताई थी। अब नेपाल ने नया राजनीतिक नक्शा जारी किया है जिसमें लिपुलेख और दो अन्य क्षेत्रों को अपने देश का हिस्सा बताया है।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

लॉकडाउन 15 दिन और बढ़ सकता है; गोवा के मुख्यमंत्री ने अमित शाह से बातचीत के बाद ये बयान दिया

सरकार 31 मई को खत्म हो रहे लॉकडाउन को मौजूदा शर्तों के साथ ही 15 दिन और बढ़ा सकती है। गोवा के मुख्यमंत्री...

क्रैश हुए प्लेन के मलबे से 2 बैगों में 3 करोड़ की करंसी मिली, सवाल- इतनी बड़ी रकम एयरपोर्ट पर क्यों नहीं पकड़ी गई?

पाकिस्तान में 22 मई को क्रैश हुए विमान के मलबे से अलग-अलग देशों की 3 करोड़ रुपए की वैल्यू की करंसी मिली है।...

बीएसई 159 अंक और निफ्टी 67 पॉइंट नीचे खुला, गुरुवार को अमेरिकी बाजार डाउ जोंस 147 अंक नीचे बंद हुआ था

सप्ताह में आज शुक्रवार को कारोबार के आखिरी दिन बीएसई 159.3 अंक नीचे और निफ्टी 67.90 पॉइंट की गिरावट के साथ खुला। इससे...

1 लाख 65 हजार 381 केस: भारत संक्रमण के मामले में एशिया में पहले और दुनिया में 9वें स्थान पर

देश में कोराना संक्रमितों की संख्या 1 लाख 65 हजार 381 हो गई है। मरीजों के मामले में भारत दुनिया में 9वें नंबर...

Recent Comments