Home International ट्रम्प ने सुरक्षा के मद्देनजर कुछ चीनी नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश...

ट्रम्प ने सुरक्षा के मद्देनजर कुछ चीनी नागरिकों के अमेरिका में प्रवेश पर रोक लगाई, डब्ल्यूएचओ से सभी रिश्ते तोड़ने का ऐलान किया



दुनियाभर में फैली कोरोना महामारी को लेकर अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने शुक्रवार को एक बार फिर चीन और डब्ल्यूएचओ को कटघरे में खड़ा किया। अमेरिका पहले ही डब्ल्यूएचओ की फंडिंग रोक चुका है। अब ट्रम्प ने विश्व स्वास्थ्यसंगठन के साथ सभी रिश्ते खत्म करने की बात कही है। उन्होंने कहा कि हमडब्ल्यूएचओ के कोटे काफंड स्वास्थ्य क्षेत्र में काम करने वाली किसी दूसरी संस्था को देंगे।

ट्रम्प ने कहा कि विश्व स्वास्थ्य संगठन पर चीन का पूरा नियंत्रण है। जबकि चीन उसे 4 करोड़ डॉलर देता है और अमेरिका एक साल में 45 करोड़ डॉलर की मदद डब्ल्यूएचओ को देता है। ट्रम्प बोले किउन्होंने हमारी मांग नहीं मानी, इसलिए हम डब्ल्यूएचओ से संबंध खत्म कर रहे हैं।ट्रम्प ने गुरुवार को कहा था कि कोरोनावायरस दुनिया के लिए चीन का एक बुरा तोहफा है।

चीन पर जासूसी और जानकारियां चुराने का आरोप

अमेरिकी राष्ट्रपति ने चीन पर लंबे समय तक जासूसी करने और औद्योगिक जानकारियां चोरी करने का आरोप भी लगाया। ट्रम्प ने कहा कि आज मैं अपनी घोषणा के जरिएअमेरिका की अहम रिसर्च को बेहतरतरीके से सुरक्षित रखने की बात कहूंगा।हम विदेशी जोखिमों के तौर पर पहचान रखने वाले चीन के कुछ नागरिकों के अमेरिका में प्रवेशपर रोक लगाएंगे।

अमेरिका v/s डब्ल्यूएचओ

1. यह विवाद क्या है?
अमेरिकी राष्ट्रपति का आरोप है कि विश्व स्वास्थ्य संगठन कोरोना के मामले में चीन को लेकर गंभीर नहीं था। इसी वजह से कोरोना संक्रमणदुनियाभर में फैल गया। ट्रम्प ने दावा किया कि डब्ल्यूएचओ अपने काम में विफल रहा है। उसकी जवाबदेही तय होनी चाहिए। अमेरिका ने डब्ल्यूएचओ को फंडिंग रोकी।

2. डब्ल्यूएचओ को आखिर फंड मिलता कितना है?

  • अब तक15%फंड अकेले अमेरिका देता था।
  • यूएस ने डब्ल्यूएचओ को 2019 में 55.3करोड़ डॉलर दिए थे।
  • ब्रिटेन08% फंडदेता है।
  • अकेले बिल एंड मेलिंडा गेट्स 10% फंडदेते हैं।

3. डब्ल्यूएचओ इस फंडिंग को खर्च कहां करता है?

  • टीकाकरण अभियान चलाने, हेल्थ इमरजेंसी और प्राथमिक इलाज मेंदुनियाभर के देशों की मदद करने में फंड खर्च होता है।
  • 2018-19 में डब्ल्यूएचओ ने फंड का 19.36% हिस्सा यानी लगभग 1 बिलियन डॉलर पोलियो उन्मूलन पर खर्च किया।
  • अफ्रीकी देशों में चल रहे डब्ल्यूएचओ के प्रोजेक्ट्स के लिए 1.6 बिलियन डॉलर खर्च किए गए।

4. क्या डब्ल्यूएचओ महानिदेशक और चीन के बीच कोई कनेक्शन है
जुलाई 2017 में डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक का पद संभालने वाले डॉ. टेडरोस अधानोम गेब्रियेसस इथोपिया के नागरिक हैं। उन्हें चीन के प्रयासों की वजह से ये पद मिलने के आरोप लगते रहे हैं। वे इस संस्थान के पहले अफ्रीकी मूल के डायरेक्टर जनरल हैं। आरोप है कि चीन ने टेडरोस के कैंपेन को ना सिर्फ सपोर्ट किया बल्कि अपने मत के अलावा अपने सहयोगी देशों के भी मत दिलवाए। अमेरिका और चीन दोनों ही विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी सदस्य हैं, लेकिन पिछले कुछ सालों में चीन ने विश्व स्वास्थ्य संगठन को देने वाले फंड में बढ़ोतरी की है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने गुरुवार को कहा था कि कोरोनावायरस दुनिया के लिए चीन का एक बुरा तोहफा है। (फाइल)



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

पेट्रोल-डीजल की कीमतें बढ़ने के विरोध में कांग्रेस का देशभर में प्रदर्शन, दिल्ली में पार्टी कार्यकर्ताओं को पुलिस ने हिरासत में लिया

पेट्रोल-डीजल की कीमतों में बढ़ोतरी के खिलाफ कांग्रेस आज देशभर में प्रदर्शन कर रही है। दिल्ली में प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस कमेटी के...

बुमराह के बाद भुवनेश्वर ने कहा- बॉल चमकाने के लिए आईसीसी दूसरा विकल्प लाए, नहीं तो गेंदबाजों को दिक्कत होगी

भारतीय तेज गेंदबाज भुवनेश्वर कुमार गेंद को चमकाने के लिए थूक के इस्तेमाल पर लगे प्रतिबंध से खुश नहीं हैं। उन्होंने कहा कि...

राष्ट्रपति ने नारेबाजी का वीडियो ट्वीट किया, बाद में डिलीट किया; ट्रम्प के प्रवक्ता की सफाई- राष्ट्रपति ने ‘व्हाइट पावर’ नारा नहीं सुना था

अमेरिका समेत दुनियाभर के कई देशों में नस्लवाद का मुद्दा गरमाया हुआ है। अश्वेत व्यक्ति जॉर्ज फ्लॉयड की पुलिस के हाथों मौत के...

नेपाल के प्रधानमंत्री का आरोप- मुझे सत्ता से हटाना चाहता है भारत, इसके लिए दिल्ली और काठमांडू में साजिश रची जा रही

नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओलीने आरोप लगाया है कि भारत उनकी सरकार गिराना चाहता है। ओली के मुताबिक, इसके लिए दिल्ली और...

Recent Comments