Home International सुरक्षा परिषद के नॉन-परमानेंट मेंबर के लिए चुनाव अगले महीने, भारत की...

सुरक्षा परिषद के नॉन-परमानेंट मेंबर के लिए चुनाव अगले महीने, भारत की एक सीट पक्की



संयुक्त राष्ट्र की महासभा ने सुरक्षा परिषद के पांच नॉन-परमानेंट मेंबरों के लिए जून में चुनाव कराने का फैसला लिया है। भारत की एक सीट पक्की मानी जा रहीहै, क्योंकि एशिया-प्रशांत सीट से केवल भारत ही एकमात्र दावेदार है।
193 सदस्यों वाली महासभा ने कोरोना महामारी के कारण शुक्रवार को पूरे सदस्यों की बैठक के बिना गुप्त मतदान के जरिए चुनाव कराने का फैसला लिया। फैसले के अनुसार साल2021-22 के कार्यकाल के लिए 17 जून से चुनाव कराए जाएंगे। भारत भी नॉन-परमानेंट मेंबर की एक सीट के लिए उम्मीदवार है और उसकी जीत पक्की मानी जा रही है।
सुरक्षा परिषद में नॉन-परमानेंट मेंबर के लिए 10 सीट खाली हैं। हर साल पांच सीटों पर चुनाव कराया जाता है। नॉन-परमानेंट मेंबर का कार्यकाल दो साल का होता है।

भारत की उम्मीदावरी का पाकिस्तान और चीन ने भी किया था समर्थन
भारत की उम्मीदवारी को चीन और पाकिस्तान सहित एशिया-प्रशांत समूह के 55 सदस्यों ने पिछले साल जून में सर्वसम्मति से समर्थन दिया था। मतदान के तरीके में बदलाव से भारत पर कोई असर नहीं पड़ेगा। उसकी एक सीट पक्की है।

इस तरह होंगे चुनाव
परंपरागत रूप से, सुरक्षा परिषदका चुनाव महासभा हॉल में आयोजित किया जाता है, जिसमें 193 सदस्य एक गुप्त मतदान करते हैं। अब कोरोना महामारी के कारण संयुक्त राष्ट्र में बड़ी बैठकें जून के अंत तक रोक दी गई हैं। नई मतदान व्यवस्था के तहत चुनाव 10 दिनों तक चलेंगे।
महासभा के अध्यक्ष तिजानी मोहम्मद-बंदे सभी मेंबरों को एक लेटर भेजेंगे। साथ ही यह भी बताएंगे कि किस तारीख को किस सीट के लिए चुनाव होगा। सभी मेंबरों को एक तय समय एलॉट किया जाएगा। जब चुनाव होगा तो मेंबर देश महासभा हॉल में अपने समय में आकर मतदान करेगा।

कौन-कौन से देश मैदान में
कनाडा, आयरलैंड और नॉर्वे पश्चिमी यूरोप और अन्य देशों की श्रेणी की दो सीटों के लिए मैदान में हैं। मैक्सिको लैटिन अमेरिका और कैरेबियन सीट से अकेला उम्मीदवार है। अफ्रीका की सीट के लिए केन्या और जिबूती आमने-सामने हैं.

भारत अब तक सात बार चुना जा चुका है
भारत अभी तक सात बार संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में नॉन-परमानेंट मेंबर रह चुका है। सबसे पहली बार साल 1950-51 के लिए भारत को चुना गया था। इसके बाद 1967—68, 1972—73, 1977—78, 1984—85, 1991—92 और 2011—12 में भी भारत सुरक्षा परिषद का नॉन-परमानेंट मेंबर रहा है।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


सुरक्षा परिषद का चुनाव महासभा हॉल में आयोजित किया जाता है, जिसमें 193 सदस्य गुप्त मतदान करते हैं। कोरोना के कारण इस बार व्यवस्था बदली गई है। -फाइल फोटो



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

आज 412 लोगों की जान गई; महाराष्ट्र में 151, मौत का आंकड़ा 9 हजार के करीब; तमिलनाडु में 60 और दिल्ली में 63 जानें...

देश में कोरोना संक्रमण से मरने वालों की संख्या 19,692 हो गई है। रविवार को देश में 412 मौतें हुईं। महाराष्ट्र में 151,...

रूस में 10 दिन में कोरोना के 67,634 मरीज बढ़े, भारत में इस दौरान 2 लाख से ज्यादा मामले आए

भारत में कोरोनावायरस के मामले रविवार को रूस से ज्यादा हो गए। यहां 6 लाख 85 हजार 85 मरीज हो गए, जबकि रूस...

106 साल की उम्र में कोरोना को हराया; 102 साल पहले स्पेनिश फ्लू जैसी महामारी भी झेली थी, तब महज 4 साल के थे

दिल्ली के राजीव गांधी सुपरस्पेशियालिटी अस्पताल (आरजीएसएसएच) में 106 साल के संक्रमित ने कोरोना को मात दे दी है। बुजुर्ग की इस रिकवरी...

बीसीसीआई ने कहा- कोहली को परेशान करने के लिए लगातार शिकायतें की जा रहीं, हम ऐसे लोगों को कामयाब नहीं होने देंगे

भारतीय टीम के कप्तान विराट कोहली और उनकी कंपनी के खिलाफ लगातार हो रही शिकायतों को भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने साजिश...

Recent Comments