Home International कोरोना ने बढ़ाईं दुनिया के 46 करोड़ मूक-बधिरों, दृष्टिहीनों की मुश्किलें; मास्क-डिस्टेंसिंग...

कोरोना ने बढ़ाईं दुनिया के 46 करोड़ मूक-बधिरों, दृष्टिहीनों की मुश्किलें; मास्क-डिस्टेंसिंग बने रोड़ा, मानसिक तनाव भी



दुनियाभर में कोरोना से 67 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं, जबकि 3.90 लाख से ज्यादा की मौत हो चुकी है। कोरोना की वजह से उन लोगों की दिक्कतें बढ़ गई हैं, जो दिव्यांग हैं और छोटे-छोटे कामों के लिए दूसरों पर निर्भर हैं। जहां दृष्टिहीन छूकर चीजों को समझ पाते हैं, वहीं मूक-बधिर इशारों, चेहरे के हाव-भाव और होठों की हलचल से संवाद करते हैं।

लेकिन, संक्रमण फैलने से रोकने के मास्क, सोशल डिस्टेंसिंग और अन्य उपायों ने दुनियाभर में ऐसे 46 करोड़ लोगों की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। ये मानसिक परेशानियों से भी जूझ रहे हैं। अमेरिका में ऐसे 3.7 करोड़ लोग हैं। कैलिफोर्निया के कॉम्पटन में रहने वाली एश्लीया हेज भी इन्हीं में से एक हैं। वे कहती हैं, "हर तरफ दहशत का माहौल है। इसने मेरी चिंताएं बढ़ा दी हैं। महामारी ने हमारी जिंदगी पूरी तरह पलट दी है।"

'मास्क के कारण किसी से बात करना भी मुश्किल'

न्यूयॉर्क के जेम्सविले में रहने वाली ग्रेस कोगन सुन नहीं सकतीं। वे कहती हैं, "हर जगह मास्क में ढंके चेहरे हैं, किसी से बात करना मुश्किल हो गया है। लगता है हम अब दुनिया से और दूर हो गए हैं।" ऐसे ही मैडी बताती हैं, "मास्क की वजह से अस्पष्ट चेहरे और भीड़ में उनकी पहचान मानसिक रूप से चुनौतीपूर्ण हो गया है। अब यह न्यू नॉर्मल है तो डर है कि मेरे जैसे लोग और हाशिए पर चले जाएंगे।"

सेंट लुईस में काउंसलर मिशेल कहती हैं, "इनके लिए व्यावहारिक समस्याएं पैदा हो गई हैं। इनमें 90% लोग होठों की हलचल से संवाद करते हैं। गाइड, कोच हाथ पकड़कर चीजों को पहचानना और खुद की बात रखना सिखाते हैं। ऐसे में इनकी दिक्कतें बढ़ जाएंगी।"

भारत में 2 करोड़ से ज्यादा आबादी दृष्टिहीन और मूक-बधिर लोगों की
भारत में 2 करोड़ से ज्यादा लोग दृष्टिहीन और मूक-बधिर हैं। राष्ट्रीय दृष्टिहीनता एवं दृष्टिबाधित सर्वे 2019 के मुताबिक देश में करीब 1.8 करोड़ लोग दृष्टिबाधित हैं, जबकि 42 लाख के करीब मूक-बधिर हैं। संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में इन असामान्यताओं के इलाज और देखभाल पर सालाना 5.62 लाख करोड़ रु.खर्च होते हैं।

Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today


संयुक्त राष्ट्र की रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर में इन असामान्यताओं के इलाज और देखभाल पर सालाना 5.62 लाख करोड़ रु. खर्च होते हैं।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

देश में युवा 50% से कम, सबसे ज्यादा बिहार-यूपी में-सबसे कम केरल में, 40 साल में मृत्यु दर 8.6% तक घटी

देश में 57.2 फीसदी आबादी की उम्र 25 साल या उससे अधिक है, चाहें पुरुष हो या महिला, शहरी हो या ग्रामीण। रजिस्ट्रार...

कुलगाम मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने एक और आतंकी ढेर किया, अब तक तीन मारे गए; राजौरी में ग्रेनेड लॉन्चर समेत कई हथियार बरामद

जम्मू-कश्मीर के कुलगाम जिले के आरा इलाके में शनिवार दोपहर से चल रहे एनकाउंटर में सुरक्षाबलों ने एक और आतंकी मार गिराया। पिछले...

15 अगस्त तक कोरोना वैक्सीन लॉन्च करने की बात पर आईसीएमआर ने कहा- केवल अनावश्यक प्रक्रिया को दरकिनार करने को कहा था

15 अगस्त तक कोरोना की मेड इन इंडिया वैक्सीन लॉन्च करने की खबर पर इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) ने शनिवार को...

कोरोना के कारण जुलाई के आखिर में 15 दिन के लिए यात्रा कराने पर विचार, हर रोज 500 श्रद्धालु ही गुफा तक पहुंच पाएंगे

कोरोना संक्रमण का असर जून-जुलाई में होने वाली अमरनाथ यात्रा पर भी पड़ता दिखाई दे रहा है। जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने कहा कि इस...

Recent Comments