नई दिल्ली.अमेरिकी अंतरिक्षएजेंसी नासा के सैटेलाइट से दिल्ली और आसपास के इलाकों में कूड़ा, प्लास्टिक और पराली जलाने की जानकारी मिली है। प्रदूषण के स्तर

नई दिल्ली.अमेरिकी अंतरिक्षएजेंसी नासा के सैटेलाइट से दिल्ली और आसपास के इलाकों में कूड़ा, प्लास्टिक और पराली जलाने की जानकारी मिली है। प्रदूषण के स्तर को देखते हुए इस पर प्रतिबंध है। ऐसे में पर्यावरण पर नजर रखने वाली एजेंसियों की चिंता बढ़ गई है। शनिवार को दिल्ली में एयर क्वालिटी इंडेक्स 209 था। वहीं शुक्रवार को बवाना, नरेला, मुंडका, आनंद विहार, गाजियाबाद और गुड़गांव में प्रदूषण का स्तर काफी खराब दर्ज हुआ।

  1. एन्वायरमेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (ईपीसीए) के चेयरमैन भूरे लाल ने कहा, ''नासा के सैटेलाइट ली गई तस्वीर में दिल्ली-एनसीआर के गुड़गांव, नरेला, नजफगढ़ और बवाना जैसे इलाकों में लाल निशान दिखाए गए हैं। हालांकि, यह पराली जलाने की घटनाएं नहीं हैं, क्योंकि इन इलाकों में खेती नहीं होती है। यह निशान औद्योगिक क्षेत्रों में कूड़े और प्लास्टिक जलने के हो सकते हैं।''

  2. दिल्ली पॉल्यूशन कंट्रोल कमेटी (डीपीसीसी) के अफसर ने कहा, ''सैटेलाइट से छोटी-मोटी आग जैसे घर के अंदर माचिस या चूल्हा जलाने का पता नहीं चलता है। आग बड़े पैमाने पर लंबे वक्त तक जलती है, तभी इससे पैदा होने वाली गर्मी से सैटेलाइट आज की घटनाएं चिह्नित कर पाता है।''

  3. ईपीसीए और डीपीसीसी ने दिल्ली के औद्योगिक क्षेत्रों में प्लास्टिक और कचरा जलाने पर रोक लगाने के लिए 83 प्रतिनिधि तैनात किए हैं। प्रदूषण कम करने के लिए इनकी संख्या और बढ़ाई जाएगी। जनवरी के अब तक पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने के 10 हजार मामले सामने आ चुके हैं।

  4. ईपीसीए मेंबर सुनीता नरैन ने बतायाकि प्रदूषण नियंत्रण के लिए इस साल हमारे पास जरूरी कानून मौजूद हैं। भट्टियों में कोयला और तेल के इस्तेमाल पर रोक लगाई गई है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने औद्योगिक ईकाइयों के लिए सल्फर और नाइट्रस ऑक्साइड के उत्सर्जन की सीमा तय की है। इसे लागू कराने के लिए ज्यादा कर्मचारियों की जरूरत पड़ेगी।



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      सैटेलाइट की तस्वीर में आग जलने के लाल निशान नजर आए।