नई दिल्ली.दिल्ली हाईकोर्ट ने मुर्गियों को बड़े और आरामदायक पिंजरों में रखने के आदेश दिए हैं। चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वीके राव ने पर्यावरण

नई दिल्ली.दिल्ली हाईकोर्ट ने मुर्गियों को बड़े और आरामदायक पिंजरों में रखने के आदेश दिए हैं। चीफ जस्टिस राजेंद्र मेनन और जस्टिस वीके राव ने पर्यावरण मंत्रालय के सचिव को निर्देश दिया कि वह मुर्गियों के प्रजनन और परिवहन संबंधी गाइडलाइन तय करने के लिए कमेटी का गठन भीकरें।

कमेटी को मामले से संबंधित विधि आयोग की सिफारिशों पर विचार करना चाहिए। कमेटी राज्यों, एनिमल वेलफेयरबोर्ड और मुर्गी पालकों सहित अन्य संबंधित लोगों से सलाह लेकर रिपोर्ट बनाए। इस रिपोर्ट को 5 फरवरी 2019 को कोर्ट मेंपेश करे। कोर्ट ने कहा कि मामले पर फैसला देने तक मुर्गियों को रखने को छोटे तारों वाले पिंजरों का इस्तेमाल नहीं होना चाहिए।

कोर्ट ने यह भी स्पष्ट किया कि मुर्गियों को रखने वालेपिंजरे इतने बड़े होने चाहिए, जिनमें मुर्गियां अासानी से रह सकें। मामले को लेकर महाराष्ट्र, उत्तरप्रदेश, पंजाब व आंध्रप्रदेश के पशुप्रेमी संगठनों ने सुप्रीम कोर्ट में याचिकाएं दायर की थीं। याचिकाओं को सुप्रीम कोर्ट ने दिल्ली हाईकोर्ट में भेज दिया था।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
High Court has ordered chickens to be kept in comfortable