नई दिल्ली. CBI के अंदर संग्राम छिड़ा हुआ है। एजेंसी के डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना आमने-सामने आ गए हैं। दरअसल, एजेंसी ने अपने ही

नई दिल्ली. CBI के अंदर संग्राम छिड़ा हुआ है। एजेंसी के डायरेक्टर आलोक वर्मा और स्पेशल डायरेक्टर राकेश अस्थाना आमने-सामने आ गए हैं। दरअसल, एजेंसी ने अपने ही स्पेशल डायरेक्टर पर मीट कारोबारी मोइन कुरैशी से 3 करोड़ रुपए की रिश्वत लेने का आरोप लगाया है। इस मौके पर हम आपको 8 ऐसे IPS अफसरों के बारे में बता रहे हैं, जो विवाद तो कभी अपनी बेबाकी को लेकर सुर्खियों में रहे। इससे पहले जानिए आखिर कौन है आईपीएस अस्थाना।

कौन हैं राकेश अस्थाना ?

- अस्थाना गुजरात कैडर के 1984 बैच के IPS अफसर हैं। वे झारखंड के रांची शहर से हैं। अस्‍थाना आधे दर्जन से भी अधिक मामलों की जांच के लिए बनी SIT के प्रमुख रहे हैं।

- 1992-2001 तक अस्थाना धनबाद CBI के एसपी रह चुके हैं। 2001 से 2002 तक उन्होंने रांची में CBI डीआईजी के रूप में काम किया।

- उनके पास पटना और कोलकाता CBI के डीआईजी का अतिरिक्त प्रभार रहा। 1996 में उन्होंने लालू के खिलाफ चार्जशीट दायर की। एक साल बाद लालू अरेस्ट कर लिए गए थे।

- अस्थाना ने नेतरहाट स्कूल (झारखंड) से 1971 में मैट्रिक पास किया। उन्होंने आगे की पढ़ाई रांची और आगरा से की।


- 1984 में पहले ही अटैम्प्ट में अस्थाना आईपीएस अफसर बने। उनके पिता एचआर अस्थाना नेतरहाट स्कूल में फिजिक्स के टीचर थे।

ऐसे आए थे मोदी की नजर में


गोधरा कांड की जांच का जिम्मा अस्थाना को सौंपा गया था। इन्होंने कुछ ही दिनों में जांच रिपोर्ट सौंप दी, जिसे सुप्रीम कोर्ट द्वारा गठित समिति ने भी सही माना था। तभी से अस्थाना पीएम नरेंद्र मोदी की निगाह में आ गए थे। 1996 में वे सीबीआई में एसपी थे, जबकि सीबीआई में डीआईजी रंजीत सिन्हा थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
IPS गौरव तिवारी, नवनीत सिकेरा और IPS संजुक्ता पराशर।
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News
IPS Officer News