नई दिल्ली.राजधानी में दिवाली पर सामान्य पटाखे छोड़ने पर सख्त प्रतिबंध है। इसके बाद भी अगर लोग ऐसे पटाखे फोड़ते हैं तो उनकी मुसीबतें बढ़ सकती हैं। पुलिस

नई दिल्ली.राजधानी में दिवाली पर सामान्य पटाखे छोड़ने पर सख्त प्रतिबंध है। इसके बाद भी अगर लोग ऐसे पटाखे फोड़ते हैं तो उनकी मुसीबतें बढ़ सकती हैं। पुलिस गश्त कर खुद तो लोगों पर नजर रखेगी ही, आने वाली शिकायतों पर भी कार्रवाई करेगी। बढ़ते प्रदूषण को रोकने के लिए पिछले दिनों सुप्रीम कोर्ट ने एक आदेश जारी कर दिल्ली-एनसीआर में सामान्य पटाखे बेचने या फोड़ते पर बैन लगा दिया था।

दिवाली पर रात को 8 से 10 बजे तक ग्रीन पटाखे फोड़ते की छूट दी गई है, वह भी सार्वजनिक स्थलों पर। इस स्थिति में पुलिस ने बीते कई दिनों से एक अभियान चलाया। इसके तहत सभी स्कूल, कॉलेज व शैक्षणिक संस्थान में जाकर छात्रों को सामान्य पटाखे नहीं फोड़ते की अपील की गई।

विज्ञापन और पैम्फलेट्स की मदद ली और रेजिडेंट वेलफेयर एसोसिएशन से मीटिंग कर लोगाें को जागरूक किया गया। सादी वर्दी में गश्त कर रही पुलिस चोरी छिपे सामान्य पटाखे बेचने वालों पर कार्रवाई कर रही है। वहीं, दिल्ली पुलिस के अतिरिक्त प्रवक्ता अनिल मित्तल ने कहा अगर कोई तय समय के भीतर ग्रीन पटाखे छोड़ता है तो कोई दिक्कत नहीं। अगर कोई सामान्य पटाखा छोड़ता पाया गया तो केस दर्ज होगा। पुलिस ने 6 नंवबर तक कुल 4785,26 किलोग्राम और 96 पैकेट्स अवैध पटाखे जब्त किए हैं। जबकि कुल 41 मुकदमे दर्ज कर 37 लोगों को गिरफ्तार किया गया है।

बाजार से लेकर महत्वपूर्ण जगहों पर रहेगी पैनी नजर

पुलिस एक्टिव मोड पर रहेगी। बाजार से लेकर महत्वपूर्ण जगहों पर सुरक्षा तो पुलिस की प्राथमिकता है ही, लोग सामान्य पटाखे ना जलाएं इस पर भी ध्यान दिया जाएगा। खासकर रात 8 से 10 बजे तक। अगर कोई पकड़ा गया तो उसके खिलाफ आपराधिक केस दर्ज होगा।- चिन्मय बिश्वाल,डीसीपी साउथ ईस्ट

अस्थमा, हार्ट अटैकऔर ब्लड प्रेशर पीड़ित धुंए से दूर रहें

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के अनुसार रात 8 से 10 के बीच ही पटाखे फोंड़ें। पटाखे एक जगह एकत्रित करके बिल्कुल न रखें। अस्थमा, हार्ट अटैक और ब्लड प्रेशर पीड़ितों को पटाखे की आवाज और धुंए से दूर रखें। डायबिटीज के मरीज मिठाई से बचें। इसमें 50 प्रतिशत शुगर होती है।- डॉ. केके अग्रवाल, अध्यक्ष, आईएमए



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
छात्रों ने मंगलवार को ‘माई राइट टू ब्रीथ कैंपेन’ चलाया और मास्क पहनकर जागरूक किया।