नई दिल्ली.ट्रिपल मर्डर का आरोपी सूरज (19) अपनी फैमिली को छोड़ने के लिए तैयार था, लेकिन दोस्तों के ग्रुप को नहीं। 12 सदस्यों के इस ग्रुप में 5 लड़कियां और 7 लड़के थे,

नई दिल्ली.ट्रिपल मर्डर का आरोपी सूरज (19) अपनी फैमिली को छोड़ने के लिए तैयार था, लेकिन दोस्तों के ग्रुप को नहीं। 12 सदस्यों के इस ग्रुप में 5 लड़कियां और 7 लड़के थे, जिनमें 4 बचपन के दोस्त शामिल हैं। इन्होंने घर के नजदीक ही वसंतकुंज एरिया में एक कमरा किराये पर ले रखा था,जो इनकी मौजमस्ती का ठिकाना था।

बेटे के इस फ्रैंड सर्किल का मिथलेश खुलकर विरोध करते थे, इस कारण वह सूरज की नजरों में खटकने लगे। आलम यह था कि सूरज अपने माता-पिता को छोड़ने के लिए राजी था, लेकिन दोस्तों से दूरियां बनाने के लिए नहीं। अब पुलिस इस ग्रुप में शामिल सभी लड़के-लड़कियों का बयान दर्ज करेगी, ताकि सूरज की लाइफस्टाइल के बारे में जानकारी मिल सके।

पुलिस की कवायद केस को मजबूत करने की है। पुलिस की टीम ने इस कमरे पर रेड भी की जहां उसे बीयर की खाली बोतल व हुक्का मिला। गुरुवार को कोर्ट में पेश करने के बाद पुलिस ने सूरज को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

इस ग्रुप ने मिलकर जो कमरा किराये पर लिया था, उसका भुगतान वे आपस में शेयर कर देते थे। यहां जिसको भी मौका मिलता वह दोस्तों से मिलने के लिए पहुंच जाता था। आठ दस महीने पहले ही इन युवक और युवतियों ने एक ग्रुप बनाया था। सूरज का ज्यादातर वक्त इन्हीं दोस्तों के बीच गुजरता था। एक शौक में मोबाइल गेम्स खेलना भी था। वह घर पर नहीं होता तो उसकी मौजूदगी कमरे पर होती थी।

यह बात उसके पिता को पता चल गई थी कि सूरज गलत दिशा में भटक गया है। इस बात को लेकर परिजन टोक करते बल्कि मारपीट भी कर देते थे। इस मामले की जांच से जुड़े एक पुलिस अधिकारी ने कहा आरोपी को रिमांड पर लेने की जरूरत इसलिए महसूस नहीं हुई, क्योंकि वारदात में इस्तेमाल चाकू और कैंची बरामद हो गई थी। वारदात का मकसद भी साफ हो गया था। फोरेन्सिक सबूत मिल चुके थे, जिन्हें आधार बनाकर आरोपी का कोर्ट में दोष साबित करना ज्यादा मुश्किल नहीं होगा।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
पुलिस हिरासत में आरोपी सूरज। (फाइल फोटो)