अखिलेश कुमार, नई दिल्ली.दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन को 200 मेट्रो कोच की खरीद के लिए जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी (जाइका) ने लोन देने से इनकार कर दिया

अखिलेश कुमार, नई दिल्ली.दिल्ली मेट्रो रेल कार्पोरेशन को 200 मेट्रो कोच की खरीद के लिए जापान इंटरनेशनल को-ऑपरेशन एजेंसी (जाइका) ने लोन देने से इनकार कर दिया है। इसकी वजह से डीएमआरसी ने फिर से बोर्ड में प्रस्ताव रखा कि 200 कोच की खरीद किस हिसाब से की जाए। तब उसमें पिछले दिनों फैसला लिया गया कि 200 की जगह सिर्फ 156 कोच की खरीद की जाए। इसके लिए लोन की व्यवस्था एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से करें।

डीएमआरसी के निदेशक (व्यवसाय विकास) एसडी शर्मा की तरफ से दिल्ली सरकार को लिखा गया एक पत्र भास्कर के हाथ आया है। उस पत्र में साफ किया गया है कि डीएमआरसी ने 156 मेट्रो कोच खरीद का पैसा जुटाने के लिए जाइका से मना किए जाने के बाद अब एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से संपर्क किया है। जल्द ही मामले में कोई कामयाबी मिलेगी। इतना ही नहीं ये भी साफ किया है कि दिल्ली सरकार को मेट्रो फेज-तीन की प्रक्रिया की तहत अब मेट्रो कोच की खरीद के प्रस्ताव को अागे बढ़ाने की जरूरत नहीं है।

एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से पहली बार मांगा है लोन :फ्रीक्वेंसी बढ़ाने के लिए फेज-एक, फेज-दो और फेज-तीन के कॉरिडोर पर जल्द से जल्द 156 कोच की जरूरत है। यही वजह है कि इसका प्रस्ताव चलाया गया था। इतना ही नहीं दिल्ली सरकार को 2017 में डीएमआरसी ने एक 582 कोच की खरीद का प्रस्ताव दिया था।

वो प्रस्ताव भी अटका रहा। जिसे टुकड़ों में बांटते हुए ही सरकार को पहले 200 कोच खरीद का प्रस्ताव भेजा गया था। एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से डीएमआरसी ने पहली बार लोन की गुहार की है। ऐसे में जाइका की तरह आसानी से लोन मिलना और ब्याज कम होना, दोनों ही प्रोजेक्ट में देरी करा सकता है।

कोच की कमी मुंडका लाइन पर प्राइवेट मेट्रो की तैयारी :दिल्ली मेट्रो रेल का कॉरिडोर 314 किमी हो चुका है। दिसंबर, 2018 तक सभी कॉरिडोर शुरू होने है और मेट्रो की लंबाई 350 किमी पहुंच जाएगी। अभी 319 ट्रेन सर्विस में हैं। दैनिक यात्रियों की संख्या को देखते हुए जल्द कोच की जरूरत है।

हाल ही में शिव विहार से त्रिलोकपुरी संजय झील तक ट्रेन शुरू हुई है और लाजपत नगर से मयूर विहार पॉकेट -एक तक ट्रॉयल चल रहा है। डीएमआरसी अधिकारियों का कहना है कि जल्द एनसीआर प्लानिंग बोर्ड से लोन की मंजूरी हो जाए इसकी कोशिश की जा रही है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
Japanese company refuses to Loan for Metro