होशियारपुर (पंजाब)।ये शादी है इंजीनियर दूल्हे संदीप सिंह सहोता और पंजाबी की असिस्टेंट प्रोफेसर दुल्हन कौरपाल की। तैयारियां आम शादी की तरह ही हैं लेकिन

होशियारपुर (पंजाब)।ये शादी है इंजीनियर दूल्हे संदीप सिंह सहोता और पंजाबी की असिस्टेंट प्रोफेसर दुल्हन कौरपाल की। तैयारियां आम शादी की तरह ही हैं लेकिन अंदर आयोजन स्थल का नजारा कुछ अलग सा है। गांव भारटा-गणेशपुर के पास पैलेस में चल रहे शादी समागम में डीजे की बजाय साहित्यकारों, कवियों और शेर-ओ-शायरी से बारातियों और घरातियों का मनोरंजन किया जा रहा है। कवियों की रचना और गजल पर ही भंगड़ा हो रहा है। पंजाबी साहित्य की तारीफ हो रही है।

दूल्हा-दुल्हन खुद कर रहे हैंपंजाबी साहित्य का प्रचार

455 से ज्यादा बाराती और घराती इस आनंद में डूबे हैं। बड़ी बात यह है कि किताबों के शौकीन पूरे परिवार ने खाने-पीने के स्टाॅल के साथ यहां दो स्टाॅल पंजाबी साहित्य व अन्य किताबों के भी लगाए हैं। मेहमान खानपान के साथ किताबें भी खरीद रहे हैं। दूल्हा-दुल्हन खुद इसका प्रचार कर रहे हैं। पूरे आयोजन में करीब 9,000 रुपए की किताबें बिकीं।


पिता बोले-सपना था बेटी की शादी में कुछ ऐसा करूं, ताकि लोग जागरूक हों


पंजाबी कहानीकार प्रीतनीतपुरी बताते हैं कि बेटी कौरपाल एक कॉलेज में असिस्टेंट प्रोफेसर है। उसका विवाह इंजीनियर संदीप से तय हुआ था। पूरा परिवार किताबें पढ़ने का शौकीन है। इंटरनेट के इस युग में लोगों में किताबें पढ़ने की रुचि घटती जा रही है। हर कोई जल्दी में है, साहित्यिक किताबों के लिए समय नहीं निकाल पा रहा है। इसलिए इस आयोजन में मैंने खाने-पीने के 25 स्टाॅल के साथ किताबों के भी दो स्टाॅल लगवा दिए। इन दो खास स्टॉल ने हर मेहमान को अट्रैक्ट किया। इनमें पंजाबी साहित्य और शायरों की किताबें रखी गई थीं। ये सब बेटी और दामाद को भी पसंद आया है। शादी समाराेह में पंजाबी के प्रसिद्ध साहित्कार 112 प्रसिद्ध शायर मौजूद थे।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
This wedding is Unique in hoshiarpur