रेलवे सुरक्षा कोष से ट्रैक की मरम्मत तेजी से जारी है। ट्रेनों का समय और सिग्नल व्यवस्था सुधारने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं, रेलवे

रेलवे सुरक्षा कोष से ट्रैक की मरम्मत तेजी से जारी है। ट्रेनों का समय और सिग्नल व्यवस्था सुधारने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि 18 साल में ट्रेनों की संख्या लगभग दोगुना हुई है, लेकिन इस दौरान मूलभूत ढांचों की मरम्मत एवं रखरखाव नहीं हुई। सुरक्षा और मरम्मत के लिए यात्रियों को कुछ तो कीमत चुकानी होगी। भविष्य में इसका फायदा दिखेगा। गोयल ने बताया कि 2013-14 में 118 ट्रेन हादसे हुए थे, जो 2017-18 में घटकर 73 रह गए।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें