भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने गुरुवार को एक ऐसे मॉडयूल का कामयाब परीक्षण किया, जिसके जरिए स्पेस फ्लाइट से अंतरिक्ष यात्री को सुरक्षित

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान (इसरो) ने गुरुवार को एक ऐसे मॉडयूल का कामयाब परीक्षण किया, जिसके जरिए स्पेस फ्लाइट से अंतरिक्ष यात्री को सुरक्षित निकालने में इस्तेमाल किया जा सकेगा। इसरो के मुताबिक, इस मॉड्यूल को स्पेस फ्लाइट के साथ जोड़कर भेजा जाएगा। यह किसी भी तरह का हादसा होने की स्थिति में स्पेसक्राफ्ट से अलग हो जाएगा और पैराशूट के जरिए पानी या जमीनी सतह तक पहुंच जाएगा। पहले परीक्षण में लॉन्चिंग पैड से छोड़े गए स्पेसक्राफ्ट में इंसानों की जगह इस मॉड्यूल का इस्तेमाल किया गया। इसके तहत 12.6 टन भारी मॉड्यूल को श्रीहरिकोटा (आंध्र प्रदेश) स्थित सतीश धवन स्पेस सेंटर से गुरुवार सुबह 7 बजे छोड़ा गया। यह टेस्ट करीब 259 सेकंड चला।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें