सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट में संशोधन संसद में पारित हो चुका है और इस स्थिति में रोक नहीं लगाई जा सकती। शुक्रवार को इस संशोधन को चुनौती देने

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट में संशोधन संसद में पारित हो चुका है और इस स्थिति में रोक नहीं लगाई जा सकती। शुक्रवार को इस संशोधन को चुनौती देने वाली याचिका पर अदालत में सुनवाई हुई। इसमें कहा गया है कि संशोधित कानून सभ्य समाज में शोषण का नया हथियार बन जाएगा। जस्टिस एके सीकरी और जस्टिस अशोक भूषण की बेंच ने केंद्र सरकार से इस मामले में छह हफ्ते में जवाब मांगा।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें