न्यूज डेस्क। शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि कोई व्यक्ति वाहन चलाते समय खुद कोई दुर्घटना करता है और उसमें कोई दूसरा

न्यूज डेस्क। शनिवार को सुप्रीम कोर्ट ने एक बड़ा फैसला सुनाया। कोर्ट ने कहा कि कोई व्यक्ति वाहन चलाते समय खुद कोई दुर्घटना करता है और उसमें कोई दूसरा वाहन शामिल न हो तो परिजन मुआवजे का दावा नहीं कर सकते। कोर्ट त्रिपुरा हाईकोर्ट के फैसले पर बीमा कंपनी की याचिका पर सुनवाई कर रही थी। पीठ ने कहा कि, उक्त मामले में यह सत्य है कि चालक वाहन वाहन का मालिक था और एक्सीडेंट लापरवाही और तेज स्पीड से वाहन चलाने से हुआ। कानून की नजर में वह थर्ड पार्टी नहीं है।

क्या है मामला
त्रिपुरा में रोड एक्सीडेंट के बाद मृतक के परिजनों से बीमा कंपनी से 68 लाख रुपए मुआवजे की मांग की थी। त्रिपुरा हाईकोर्ट ने मृतक के परिजनों के पक्ष में फैसला सुनाया था। बीमा कंपनी ने इसे सुप्रीम कोर्ट में चुनौती दी थी। जिस पर सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने त्रिपुरा हाईकोर्ट के फैसले को निरस्त कर दिया और बीमा कंपनी की अपील स्वीकार की।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
No insurance claim if accident caused by negligence