बुलंदशहर.गोकशी के शक में हिंसा भड़काने के आरोप में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया। हिंसा और इस दौरान मारे गए इंस्पेक्टरसुबोध सिंह की हत्या में

बुलंदशहर.गोकशी के शक में हिंसा भड़काने के आरोप में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया। हिंसा और इस दौरान मारे गए इंस्पेक्टरसुबोध सिंह की हत्या में मुख्य आरोपीबजरंग दल नेतायोगेश राज अभी भी फरार है।इसी ने सोमवार को गोकशी होने की शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस इस मामले में 4 लोगों को हिरासत में लिया।


चिंगरावठी इलाके में सोमवार को गोकशी के शक में हिंसक प्रदर्शन हुआ था। इस दौरान जब पुलिस दंगाइयों को रोकने पहुंची तो भीड़ ने पुलिस पर हमला कर दिया। इस दौरान इंस्पेक्टर सुबोध की गोली लगने से मौत हो गई थी। गोली लगने के बाद भी भीड़ इंस्पेक्टर को पीटती रही। हिंसा मेंएक युवक भी मारा गया।

दो एफआईआर दर्ज, 27 नामजद

पुलिस ने मामले में दो एफआईआर दर्ज की हैं। पहली एफआईआर स्लॉटर हाउस पर और दूसरी हिंसा को लेकर दर्ज हुई है। एफआईआर में 27 नामजद और 60 अज्ञात आरोपी हैं। इनमें बजरंग दल का नेता योगेश राज, भाजपा युवा अध्यक्ष शिखर अग्रवाल, विहिप कार्यकर्ता उपेंद्र राघव भी नामजद है।

पैतृक गांव में अंतिम संस्कार
इंस्पेक्टर सुबोध का पार्थिक शरीर मंगलवार को उनके पैतृक गांव तिरिगवां लाया गया। यहां बड़ी संख्या में लोग उनके अंतिम दर्शन में जुटे। इससे पहलेपार्थिव शरीर एटा पुलिस लाइन लाया गया था। यहां राजकीय सम्मान के साथअंतिम सलामी दी गई। एडीजी अजय आनंद, डीआईजी प्रीतिंदर सिंह, डीएम आईपी पांडेय, एसएसपी आशीष तिवारी ने श्रद्धांजलि दी।

q


योगी ने मदद का किया ऐलान

मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ ने दिवंगत इंस्पेक्टर की पत्नी को 40 लाख रुपए और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपएकी आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया। उन्होंने आश्रित परिवार को पेंशन और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का भी आश्वासन दिया।


अखलाक केस की जांच में शामिल थे इंस्पेक्टर सुबोध

सुबोध ग्रेटर नोएडा में हुए अखलाक हत्याकांड की जांच में शामिल थे। वे 28 सितंबर 2015 से 9 नवंबर 2015 तक इस मामले में जांच अधिकारी थे।28 सितंबर 2015 को ग्रेटर नोएडा के बिसाहड़ा गांव में कुछ युवकों ने अखलाक की हत्या कर दी थी। हमलावरों को शक था कि अखलाक के घर में गोमांस रखा गया था।

प्रदेश में अराजकता:अखिलेश

सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने कहा- बुलंदशहर में पुलिस और ग्रामीणों के बीच संघर्ष में इंस्पेक्टर की मौत का समाचार बेहद दुखद है। उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि।भाजपा के शासन में प्रदेश अराजकता के दौर से गुजर रहा है। वहीं, आजम खान ने कहा- अगर वहां मवेशियों के शवमिले हैं, तो पुलिस को मामले कीनिष्पक्ष जांच करनी चाहिए। क्योंकि जिस क्षेत्र में यह हिंसा हुई वहां, मुस्लिम आबादी नहीं है।

उत्तरप्रदेश में जंगलराज:मायावती
बसपा सुप्रीमो मायावती ने कहा है कि सूबे की भाजपा सरकार हर प्रकार की अराजकता को बढ़ावा देने का काम कर रही। उत्तरप्रदेश जैसे राज्य में भाजपा का जंगलराज कायम है। उन्होंने कहा कि मृतक के परिजनों को केवल आर्थिक मदद ही काफी नहीं है। दोषियों को समय रहते सख्त से सख्त सजा दी जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि ऐसा महसूस हो रहा है कि राज्य में सरकार नाम की चीज नहीं है।

तेलंगाना में जहर उगल रहे योगी:सिब्बल

कपिल सिब्बल ने कहा कि यह चौंकाने वाला है कि जिस तरह से भीड़ ने अखलाकमामले की जांच कर रहे पुलिस अफसर को मार दिया। इन लोगों को कानून हाथ में लेने का अधिकार किसने दिया? राज्य की स्थिति पर ध्यान देने की बजाय योगी तेलंगाना में जहर उगल रहे हैं।


एसआईटीम गठित, हिंसा की वजहों को तलाशा जाएगा

एडीजी (मेरठ जोन) प्रशांत कुमार ने कहा- गोकशी मामलेमें सात लोगोंसुदैफ चौधरी, इलयास, शराफत, अनस, साजिद, परवेज और सरफुद्दीन के खिलाफ गोवध अधिनियम की धारा के तहत मुकदमा दर्ज किया है।2 लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। जांच के लिए एक एसआईटी का गठन किया गया है। जांच के एंगल में यह भी देखा जाएगा कि हिंसा क्यों हुई और क्यों पुलिसकर्मियों ने इंस्पेक्टर सुबोध कुमार को अकेला छोड़ दिया।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
परिवार के साथ सुबोध।(फाइल)
इंस्पेक्टर सुबोध के बेटे अभिषेक।
इंस्पेक्टर सुबोध की पत्नी और बेटा।
दिवंगत पुलिस इंस्पेक्टर को सलामी देते जवान।
पार्थिव शरीर को कंधा देते एडीजी जोन एवं एसएसपी।