पटना/मधेपुरा.पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एपीशाही ने खुद बिहार में एनएच की दुर्दशा, मरम्मत औरनिर्माण में जानलेवा बदइंतजामी को उजागर किया। गुरुवार को

पटना/मधेपुरा.पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस एपीशाही ने खुद बिहार में एनएच की दुर्दशा, मरम्मत औरनिर्माण में जानलेवा बदइंतजामी को उजागर किया। गुरुवार को उन्होंने कोर्ट में एनएच 106 पर मधेपुरा-उदाकिशुनगंज के बीच अपनी यात्रा का अनुभव सुनाया।

  1. चीफ जस्टिस नेकहा-’सिर्फ 35 किमी के सफर में पूरे 2 घंटे लगे। इस दौरान ऐसा लगा कि हम सड़क नहीं, बल्कि वैतरणी पार कर रहे हैं। चारों तरफ धूल ही धूल। स्कूली बच्चे, बड़े लोग सभी अपनी नाक पर हाथ या कपड़ा रखकर चल रहे थे। यह प्रदूषण तो जानलेवा है। हद है। एक साल से हाईवे का काम बंद है और सरकार ठेकेदार पर कार्रवाई की सिर्फ कोशिश कर रही है। यह दयनीय स्थिति कोर्ट को परेशान करती है।’ कोर्ट ने इस मसले का स्वतः: संज्ञान लिया। इसे जनहित याचिका में तब्दील किया। शुक्रवार को सुनवाई होगी। चीफ जस्टिस ने महाधिवक्ता ललित किशोर को भी सुनवाई के दौरान मौजूद रहने को कहा।

  2. चीफ जस्टिस बोले-’मैं उत्तर बिहार की निचली अदालतों का निरीक्षण करने गया था। सुपौल के बीरपुर से नवगछिया के बिहपुर जाने के रास्ते में मुझे एनएच 106 पर मधेपुरा में 35 किमी का सफर तय करने में 2 घंटे लग गए। इस बीच हाईवे के चारों तरफ धूल ही धूल मिला। इस जगह पर हाईवे का निर्माण पिछले एक साल से आधा-अधूरा पड़ा है। इससे पूरा वातावरण धूल धूसरित था। सबसे दयनीय स्थिति स्कूली बच्चे व स्थानीय ग्रामीणों की थी, जो मुंह पर कपड़ा ढंक कर सड़क किनारे चल रहे थे। मैं वहां रुककर जब सरकारी इंजीनियर से अधूरे निर्माण का कारण पूछा, तो जवाब मिला कि ठेकेदार (निर्माण कंपनी) दूसरे राज्य का है। साल भर पहले काम छोड़कर चला गया है। जब कंपनी पर कार्रवाई के बारे में पूछा, तो जवाब मिला कि कोशिश की जा रही है।’

  3. बीरपुर से उदाकिशुनगंज तक 106 किमी एनएच 106 का निर्माण कराने वाली आईएलएंडएफएस कंपनी बैंकों और अन्य ऋणदाताओं के 91,000 करोड़ से अधिक के कर्ज में डूबी हुई है। इससे मधेपुरा में भी एनएच निर्माण कार्य लड़खड़ा गया। कंपनी को नवंबर-दिसंबर 2016 में 36 महीना का समय सड़क का निर्माण पूरा करने के लिए मिला था।

  4. एक साल पहले ठेकेदार इस सड़क का काम बंद कर चला गया और हाईवे अथॉरिटी अबतक उस पर कार्रवाई के बारे में सोच-विचार ही कर रही है।- जस्टिस एपी शाही



    1. Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
      एनएच से गुजरते वक्त चीफ जस्टिस काे चारों तरफ धूल ही धूल मिली।