नई दिल्ली. मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री जनधन योजना को दुनिया की सबसे बड़ी फाइनेंशियल इन्क्लूजन स्कीम बताते हुए इसे आगे भी जारी रखने का फैसला किया है। इस

नई दिल्ली. मोदी सरकार ने प्रधानमंत्री जनधन योजना को दुनिया की सबसे बड़ी फाइनेंशियल इन्क्लूजन स्कीम बताते हुए इसे आगे भी जारी रखने का फैसला किया है। इस योजना के बेनिफिट‌्स भी अब पहले के मुकाबले दोगुने कर दिए गए हैं। जनधन खाते में मिलने वाली ओवर ड्राफ्ट (ओडी) की सीमा और बीमा राशि को दोगुना कर दिया गया है। इस स्कीम का लक्ष्य बदलते हुए अब हर परिवार की जगह हर व्यक्ति का बेसिक अकाउंट खोलने का फैसला किया गया है।

ओवर ड्राफ्ट की सीमा 5 से बढ़ाकर 10 हजार की
कैबिनेट ने नए जनधन खातों पर ओवर ड्राफ्ट यानी OD की सीमा को 5 हजार से बढ़ाकर 10 हजार रुपए कर दी गई है। हालांकि मौजूदा जनधन खातों पर OD की सीमा 5 हजार रुपए ही रहेगी, लेकिन नए खातों के लिए यह सीमा 10 हजार रुपए करने का निर्णय लिया गया है। 2 हजार रुपए तक की OD के लिए कोई शर्त नहीं होगा। OD लेने वालों की उम्र सीमा पहले 18 से 60 वर्ष थी। इसे बढ़ाकर अब 18 से 65 वर्ष कर दिया गया है।

1 की जगह 2 लाख का इंश्योरेंस कवर
जनधन खातों के साथ मिलने वाले रुपे कार्ड पर इंश्योरेंस अब 1 लाख की जगह 2 लाख कर दिया गया है। यह इंश्योरेंस दुर्घटना की स्थिति में दिया जाता था। हालांकि सरकार ने साफ किया है कि 28 अगस्त 2018 के बाद खुलने वाले खाताें के लिए जारी कार्ड पर ही 1 की जगह 2 लाख का एक्सीडेंटल क्लेम मिलेगा। पहले के खुले खातों पर 1 लाख का ही क्लेम मिलेगा।

योजना का अवधि भी बढ़ाई
वित्त मंत्री अरुण जेटली के मुताबिक, शुरू में इस योजना को 4 साल के लिए चलाया गया था। यह इस साल 14 अगस्त को समाप्त हो गई थी। अब इसकी मियाद बढ़ा दी गई है। यह योजना अब अगले फैसले तक जारी रहेगी। योजना को कब समाप्त करना है, इस बारे में निर्णय बाद में लिया जाएगा।


दुनिया की सबसे बड़ी फाइनेंशियल इन्क्लूजन स्कीम

मोदी सरकार जनधन को दुनिया की सबसे बड़ी फाइनेंशियल इन्क्लूजन स्कीम बताती रही है। सरकार के मुताबिक, इस स्कीम में 53 प्रतिशत खाते ग्रामीण क्षेत्र की महिलाओं के हैं। 59 प्रतिशत बैंक खाते ग्रामीण और अर्ध शहरी क्षेत्रों में खोले गए हैं। अभी तक 83 प्रतिशत बैंक खातों को आधार से जोड़ा जा चुका है और 24.4 करोड़ लोगों के पास रुपे कार्ड हैं।

DBT का बड़ा जरिया है जनधन स्कीम
जनधन स्कीम डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) का बडा जरिया रही है। इस स्कीम के तहत सरकार 7.5 करोड़ बैंक खातों में DBT की सुविधा दे रही है। इन खातों में मिलने वाली 5000 रुपए की ओवर ड्राफ्ट की सुविधा का 30 लाख लोगों ने उपयोग किया है। 31 जनवरी 2015 से पहले के खातों में 30 हजार रुपए के बीमे की सुविधा से 4981 परिवारों को लाभ मिला है।



Download Dainik Bhaskar App to read Latest Hindi News Today
प्रधानमंत्री बोले- जनधन योजना दुनिया की सबसे बड़ी फाइनेंशियल इन्क्लूजन स्कीम