भारत लंबे समय से न्यूक्लियर सप्लायर ग्रुप (एनएसजी) में शामिल होने की कोशिश में जुटा है। हालांकि, चीन और उसका समर्थन करने वाले कुछ देशों के अड़ंगे की वजह से भारत अब तक 48 सदस्य देशों वाले इस संगठन का हिस्सा बनने में कामयाब नहीं हो सका है। ट्रम्प प्रशासन के एक अफसर का कहना है कि भारत इस संगठन में शामिल होने की सभी शर्ते पूरी करता है, लेकिन चीन के वीटो की वजह से उसे एनएसजी में शामिल करने की कोशिशों में रुकावट आई है।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें