इस्लामाबाद. 2013 के आम चुनाव में इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) को 35 सीटें मिली थीं। 2018 में पीटीआई ने रणनीति बदली और चुनाव अभियान में डिजिटल तरीकों का इस्तेमाल किया। न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इमरान की पार्टी ने ऐप और 5 करोड़ लोगों के डेटाबेस के जरिए एक योजना बनाई। इस योजना को विरोधी पार्टियों से छिपाया गया, ताकि वे इसकी नकल न कर सकें। नतीजा ये रहा कि पीटीआई को इस बार 81 सीटें ज्यादा यानी 116 सीटें मिलीं। जो वोट शेयर 2013 में 16.92% था, वह इस बार 31.87% यानी करीब दोगुना हो गया। इस चुनाव में नवाज शरीफ की पार्टी पाकिस्तान मुस्लिम लीग-नवाज (पीएमएल-एन) को 64 और पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) को 43 सीटें मिलीं।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें