चीन में सर्च इंजन लॉन्च करने की योजना पर 6 अमेरिकी सांसदों ने गूगल के सीईओ सुंदर पिचाई को पत्र लिखा है। इसमें उन्होंने पिचाई से पूछा है कि 2010 के बाद ऐसे क्या बदलाव आए, जिससे गूगल चीनी शासन की कठोर सेंसरशिप (इंटरनेट नियंत्रण) के बावजूद उसका साथ देने के लिए तैयार हो गया। सांसदों ने चिंता जाहिर करते हुए लिखा कि आखिर कैसे गूगल अपने इस प्रोजेक्ट के जरिए मानवाधिकार उल्लंघनों में चीन का साथ देने के लिए तैयार हो गया?

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें