कश्मीर के कठुआ में चार महीने पहले अाठ साल की बच्ची से गैंगरेप के मामले में आरोपियों को अब तक सजा नहीं मिल पाई है। बच्ची को कई दिनों तक मंदिर में कैद कर नशीली दवा देकर रेप किया। इस पूरे मामले से बीते जनवरी में पाकिस्तान में सात साल की बच्ची से गैंगरेप की कहानी याद आ गई। इस मामले में लाहौर हाईकोर्ट ने दोषी को एक बार नहीं, बल्कि चार बार मौत की सजा सुनाई थी। सवाल उठता है कि अगर पाकिस्तान जैसे मुल्क में बच्ची के रेप और हत्या के मामले को इतनी गंभीरता से लिया जा सकता है, तो भारत में ज्यूडिशियल सिस्टम और जांच एजेंसियां इतने धीमी गति से काम क्यों करती हैं। आइए जानते हैं पाकिस्तान में बच्ची के साथ रेप, हत्या और दोषी को सजा देने तक की पूरी कहानी।