सीरिया को अपने ही देश के बेगुनाह लोगों पर किए गए केमिकल अटैक का जवाब मिलने लगा है। अमेरिका ने वॉर्निंग के बाद सीरिया पर हवाई हमले शुरू कर दिए हैं। इस काम में फ्रांस और ब्रिटेन ने भी उसका साथ दिया। तीनों देशों ने मिलकर राजधानी दमिश्क और होम्स शहर पर 100 से ज्यादा मिसाइलें दागीं। हालांकि, सीरिया सरकार के विरोधी गुट के लिए ये हमले इतना बड़े नहीं हैं। उन्होंने पहले ही कहा था कि अमेरिका के हमले सिर्फ केमिकल वेपन्स वाली जगहों पर होंगे। इनका मकसद प्रेसिडेंट बशर अल असद को कमजोर करना बिल्कुल नहीं होगा। ओरिएंट न्यूज वेबसाइट ने ऐसे एयरबेस और मिलिट्री अड्डों की लिस्ट भी जारी की थी, जो हमले का शिकार हो सकते हैं।