ब्यूनॉस आयर्स. अर्जेंटीना में मंगलवार को 10 लाख महिलाओं ने प्रदर्शन किए। लाल कोट और हरे रंग के स्कार्फ में देश भर में महिलाओं ने प्रदर्शन किया। महिलाओं ने मांग की कि गर्भपात को कानूनी रूप से वैध बनाया जाए ताकि वे गर्भधारण का फैसला खुद ले सकें। अर्जेंटीना कैथोलिक देश हैं, जहां अबॉर्शन बैन है। चर्च गर्भपात को गलत मानता है। ऐसे में दुष्कर्म और स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रही महिलाओं के अलावा किसी को भी गर्भपात की इजाजत नहीं है। विश्व के सबसे बड़े कैथोलिक धर्म गुरु पोप फ्रांसिस अर्जेंटीना के ही रहने वाले हैं। बुधवार को यहां की संसद गर्भपात की वैधता को लेकर फैसला करेगी।

आज की ताज़ा ख़बरें पढ़ने के लिए दैनिक भास्कर ऍप डाउनलोड करें