सीरिया में 7 अप्रैल को बेगुनाह लोगों पर किए गए रासायनिक हमले के जवाब में अमेरिका ने सीरिया पर शुक्रवार रात मिसाइलों से हमला किया। इसमें फ्रांस और ब्रिटेन ने उसका साथ दिया। अमेरिकी रक्षा विभाग पेंटागन के मुताबिक, दमिश्क और होम्स में 103 मिसाइलें दागी गईं। फ्रांस ने दावा किया है हमले में बड़ी मात्रा में रासायनिक हथियार तबाह हुए। वहीं, सीरियाई समर्थक रूस की सेना ने कहा है कि सीरिया के एयर डिफेंस सिस्टम ने 71 हमलावर मिसाइलों को मार गिराया। राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा कि यह शैतान की इंसानियत के खिलाफ की गई कार्रवाई का जवाब है। रूस ने इसे राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन का अपमान और ट्रम्प को मौजूदा दौर का हिटलर बताया है।